कुए अक्सर गोल ही क्यूँ बनाए जाते हैं ? इनके पीछे क्या वैज्ञानिक कारण है ।

Spread the love

हेलो दोस्तों !! स्वागत है आपका एक और नए आर्टिकल कुंए अक्सर गोल ही क्यूँ बनाए जाते हैं ? में इसमें आज हम जानेंगे के कुए के पीछे की वैज्ञानिक कारण क्या होते है कुंए अक्सर गोल ही क्यूँ बनाए जाते हैं ? चौकोर क्यों नहीं यदि हम गोल कुआ न बनाकर चौकोर कुआ बनाये तो क्या होगा ।

 रोचक जानकारी के बारे में हर व्यक्ति जानना चाहेगा आखिर क्यों बनाया जाता है कुआ गोल । और जब हम वैज्ञानिक कारणों को जान लेते है तो धार्मिक और अंधविश्वास से धीरे धीरे दूर होने लगते है । 

और आप अपने दोस्तों और परिवारों में यह प्रश्न पूछकर उनको आप आश्चर्यचकित कर सकते हो आपकी ज्ञान भी इन छोटी छोटी चीजों को जानकर बढ़ेगा । और आप बाकी लोगो से कुछ ज्यादा जानकार जरूर हो जायेंगे । 

तो आईये जानते है गोल कुए के पीछे छिपे कुछ वैज्ञानिक कारणों के बारे में  –

कुए अक्सर गोल ही क्यूँ बनाए जाते हैं ?

जैसा की आप सब जानते है की कुए का का प्रयोग हमारे पूर्वज पानी को पीने के लिए करते थे । पर यह नहीं जानते की गोल ही क्यों खोदा जाता है ।

कुए का गोल होने का कारण यह है की अन्य कुए की आकृति की अपेक्षा में गोल कुए की दीवारे बहुत ही मजबूत होती है । और इसे खोदने में ज्यादा मेहनत की जरुरत नहीं पड़ती है और अन्य कुए में काफी ज्यादा समय भी लगता है । और गोल कुआ अन्य आकार के कुए की अपेक्षा में काफी कम जगह लेता है । इसलिए कुए को गोल ही खोदा जाता है ।

 

यह भी पढ़ें – 36 मनोविज्ञान के कुछ अनसुने और रोचक तथ्य

 

और जब हमारे पूर्वज चौकोर कुए खोदते थे तो उनके ऊपर मिटटी और दीवारे गिर जाती जाती थी। जबकि गोल कुए को खोदते वक्त ऐसी कोई भी समस्या नहीं होती थी इसलिए भी उन्होंने गोल कुए को ही खोदना जारी रखा । और गोल कुए की दीवारे चौकोर कुए की दीवारों से काफी ज्यादा मजबूत बनती है । क्योकि उनमे कोई जोड़ नहीं होता या कोई कोना नहीं होता । और गोल कुए का जीवनकाल चौकोर कुए की अपेक्षा बहुत अधिक दिन तक होता है । इसलिए कुए को गोल ही खोदा जाता है ।  

कुआ गोल होता है जिसके कारण से कुए के पानी का दबाव सभी दीवारों पर बराबर होता है । क्युकी कुए के केंद्र से सभी दीवारे समान दुरी पर होती है । इसलिए इसके ढहने या गिरने का संभावना भी कम होता है । और वायुमंडलीय और समुंद्रिय दाब काफी ज्यादा होता है । और गोल होने के कारण इनकी दीवारे बहुत अधिक बाहरी दबाव को झेलने में सक्षम होती है ।

और जब कुए में पानी उफान लेते हुए ऊपर की ओर आता है तो वह कुए की गोल होने के कारण गोल गोल घूमते हुए आसानी से ऊपर आ जाता है । यदि यही पर कुए को चौकोर बना दिया जाये तो और यदि चौकोर कुए में पानी उफान लेकर तेजी से ऊपर आये तो यह उनकी सभी दीवारों से बार बार टकराएगा । जिससे दीवारे टूटने का चांस ज्यादा हो जाती है ।

इसी वजह से लिक्विड रखने वाली सभी चीजों को गोल बनाया जाता है जैसे , पाइप , पानी टंकी , कुआ और लिक्विड रखने वाली सभी चीजों को । जिससे जोड़ से बारे बार टकराकर जोड़ टूट न जाये या उसमे प्रेसर ना बना ले।  चौकोर कुए को खोदने में काफी ज्यादा मेहनत और जगह की जरुरत होती है । 

और पानी का दबाव भी इनकी दीवारों पर अलग अलग होता है जिससे की कुए की दीवारों को गिरने का चांस ज्यादा हो जाता है । और चौकोर कुए का दीवार बाहरी दबाव को बहुत ही कम सहन कर पाते है । इसलिए वे जल्दी ही ढह जाते है । 

उम्मीद करते है आपको यह कुंए अक्सर गोल ही क्यूँ बनाए जाते हैं ?आर्टिकल जरूर समझ में आया होगा क्युकी हमने बहुत ही आसान तरिके से समझाने का प्रयास किया है ताकि हर एक व्यक्ति को समझ में आसानी से आ जाए । यदि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो जरूर आप इसे अपने दोस्तों को शेयर कर सकते है । और आपको कैसा लगा कमेंट करके जरूर बताये ।


Spread the love

Leave a Comment